bill kaise banta hai और सांसद मे बिल कैसे पास होता है 

14890

bill kaise banta hai और सांसद मे बिल कैसे पास होता है 

bill kaise banta hai क्या आप जानते हैं कि बिल कैसे बनता है और बिल किसके द्वारा पास किया जाता है और यह कृषि कानून बिल जिसका इतना ज्यादा विरोध हुआ है ऐसे कई कानून बने हैं यह कैसे पास हुए हैं और बिल के बाद में कानून बनने में कितना समय लगता है और यह  आईडिया किसके द्वारा लाया जाता है कि ऐसा बिल लाया जाए और उसको कानून बनाया जाए अगर आपके मन में यह सारे सवाल है तो हम हमारे इस आर्टिकल में आपको बताएंगे कि बिल कैसे बनाए जाते हैं और सांसद में कैसे पास होते हैं

बिल कैसे बनता है

दोस्तों जैसा कि आपको पता है कि बिल बनाने का कानून संसद में होता है और सबसे पहले यह संसद में ही पास होता है और भारत की राजधानी दिल्ली में भारत की सांसद स्थित है कोई भी कानून पहले संसद में बिल के रूप में प्रतिस्थापित होता है जब कोई बिल संसद में पेश होता है उसे राष्ट्रपति की अनुमति मिलने के बाद ही बाह बिल बनाने का विशेष अधिकार होता है अगर राष्ट्रपति की अनुमति नहीं होती है तो किसी भी बिल को विधेयक नहीं बनाया जा सकता और संसद में प्रमुख दो तरह के बिल पेश किए जाते हैं

सरकारी बिल और गैर सरकारी विधेयक

सरकारी बिल की बात की जाए तो सरकारी बिल या विधेयक मंत्रिमंडल के सदस्य के द्वारा ही पेश किए जाते हैं और इन्हें बगैर मंत्रिमंडल के सदस्य के द्वारा पेश नहीं किए जा सकते जबकि

गैर सरकारी विधेयक की बात किए जाए तो इन्हें अन्य सदस्यों द्वारा लाये जाते हैं जो मंत्री मंडल मंत्री परिषद के सदस्य नहीं होते यानी कि इसे आप विपक्ष भी कह सकते हैं उदाहरण के तौर पर अभी के समय में बीजेपी की सरकार है और जो गैर सरकारी विधेयक होता है वह भारत की कांग्रेस के द्वारा लाया जा सकता है

 विधेयक bill  बनाने की फुल प्रक्रिया

प्रथम वाचन

इसे हम बिल की प्रति इस्तापना या विधायक का प्रथम वाचन भी बोल सकते हैं यह अवस्था काफी ज्यादा सरल होती है मंत्री विधेयक को प्रस्तावित करता है और फिर अध्यक्ष को सूचित किया जाता है अध्यक्ष यह बिल सदन के सामने रखता है और जब सभी मंत्रियों का इस बिल के प्रति सामान्य मत होता है और वह सभी मान जाते हैं कि यह विधेयक बनने के लिए तैयार है तो इसको प्रस्तावित करने के लिए लाया जाता है

 द्वितीय वाचन

जब सदन में सामान चर्चा हो जाती है तो उसके बाद सदन के पास चार विकल्प होते हैं सदन चाहे तो स्वयं विधेयक पर विस्तृत चर्चा कर सकता है सदन चाहे तो विधेयक सदन की प्रबर्तन समिति को यह भेज सकता है दोनों सदनों की समिति को भेज सकता है और जनता का जनमत जानने के लिए यह जनता को वितरित भी कर सकता है

और जब यह वचन पूरा हो जाता है इसके बाद मंत्री विधेयक को पास करने के लिए सदन से ही अनुरोध करता है और इस प्रक्रिया में किसी भी प्रकार की कोई चर्चा नहीं की जाती और विधेयक का विरोध केवल पास और उसका समर्थन करने के लिए ही किया जाता है और इसके लिए उपस्थित मतदान वाले सदस्यों का बहुमत आवश्यक होता है

 

द्वितीय सदन में बिल का कार्य 

जब यह बिल किसी एक सदन में पास हो जाता है तो इस बिल को दूसरे सदन में भेज दिया जाता है और इस बिल के साथ वहां पर भी तीन वचन की प्रक्रिया होती है जो कि कुछ इस प्रकार है

  • अगर कोई बिल या विधायक दोनों सदनों में पास किया जाता है तो उसे कानून बनने के लिए राष्ट्रपति के पास भेज दिया जाता है
  • अगर बिल में किसी भी प्रकार का संशोधन करना होता है तो बिल को वापस सदन के पास वापस भेज दिया जाता है और जो भी सदन बिल लाता है उस  पर विचार करता है और विचार करने के बाद या तो उसमें संशोधन कर सकता है अगर वह संशोधन कर लेता है तो बिल राष्ट्रपति की अनुमति के लिए भेज दिया जाता है अगर बाह  पहला सदन जो बिल लाया था वह संशोधन करने से स्पष्ट तौर पर मना कर देता है तब इसे गतिरोध माना जाता है और बिल वहीं पर अटक जाता है
  •  दूसरे सदन की बात की जाए तो बाह भी इस बिल को अस्वीकार कर सकता है यह भी एक प्रकार का गतिरोध  कहलाता है दोनों सदनों के गतिरोध को समर्पित करने के लिए राष्ट्रपति की अनुमति के लिए बिल राष्ट्रपति के पास भेज दिया जाता है क्योंकि राष्ट्रपति एक ऐसा पद होता है जिसके पास कई विकल्प मौजूद होते हैं और उन विकल्पों के द्वारा इस बिल को हल करने के लिए मदद करता है जब राष्ट्रपति इस बिल पर अपने सिग्नेचर कर देता है इसके बाद ही कोई बिल कानून बनता है और वह सभी राज्यों में लागू हो जाता है

भारत में 2014 के बाद सबसे ज्यादा बिल लाए गए और उन बिल का विरोध भी देखने को मिला है लेकिन भारत की सरकार ने कुछ ऐसे बिल लाए हैं जिसका विपक्ष ने विरोध किया है जैसा कि सभी विपछ करते हैं लेकिन इसके पश्चात भी यह बिल देश हित में थे और देश के लिए इन बिल का बनना भी बहुत जरूरी था और यह बिल पास होने के बाद देश में कुछ विकास कार्यो में तेजीआएगी आएगी

 

जब भी बिल संसद में पेश होता है वह एक विशेष सत्र के दौरान ही पेश किया जाता है हालांकि किसी बिल की जरूरत पड़ती है जब सांसद का आपातकालीन सत्र बुलाकर बिल को पेश किया जा सकता है ऐसे  ज्यादातर मामलों में संसद के विशेष सत्र में ही इन बिल को प्रस्तुत किया जाता है इमरजेंसी के दौर में भारत में अभी तक कोई भी बिल पेश नहीं किया गया है

bill kaise banta hai आर्टिकल कैसा लगा 

दोस्तों हमने हमारे इस आर्टिकल में bill kaise banta hai आपको बताया है कि बिल कैसे पास होता है और वह विधेयक कैसे बनता है अगर आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल अच्छा लगता है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल कैसा लगा धन्यवाद

Previous articlechunaav ayog kya hota hai भारतीय निर्वाचन आयोग की शक्तियां व कार्य
Next articlesambhidan kya hota hai भारत का संविधान: अर्थ, संरचना, अधिनियम, मुख्य विशेषताएँ
manoj meena
हेलो दोस्तों मेरा नाम मनोज मीना है मैं बीए फाइनल ईयर का छात्र हूं मुझे बायोग्राफी लिखना काफी पसंद है क्योंकि हिंदी में ज्यादातर जानकारी किसी के बारे में भी उपलब्ध नहीं होती इसीलिए मैं ज्यादातर जानकारी इकट्ठी कर कर पॉपुलर पर्सन के बारे में बायोग्राफी लिखता हूं आप मुझे इंस्टाग्राम और फेसबुक पर फॉलो भी कर सकते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here