chunav kitne prakar ke hote hain Types of elections in India in Hindi

15640

chunav kitne prakar ke hote hain Types of elections in India in Hindi

chunav kitne prakar ke hote hain दोस्तों क्या आप जानते हैं कि भारत में चुनाव कितने प्रकार के होते हैं और इन चुनाव का आयोजन किसके द्वारा किया जाता है और भारत में चुनाव क्यों होते हैं और राज्य और केंद्र में कैसे चुनाव करके सरकार बनाई जाती है अगर आप इन सब के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को शुरू से लेकर आखिरी तक जरूर पढ़ें क्योंकि हम हमारे इस आर्टिकल में आपको चुनाव के प्रकार के बारे में विस्तार से बताएंगे और बताएंगे कि चुनाव का गठन किसके द्वारा किया जाता है

 चुनाव क्या होता है chunav kya hota hai 

चुनाव की बात की जाए तो भारत एक लोकतांत्रिक देश है और भारत की जनसंख्या 130 करोड़ से ज्यादा है और देश के लिए फैसला इतनी ज्यादा जनता एक साथ नहीं ले सकती इसके लिए एक सरकार बनाई जाती है और वह सरकार जनता के द्वारा चुनी जाती है यानी कि निष्पक्ष चुनाव होते हैं यह किसी के दबाव में नहीं होते और उस सरकार के द्वारा ही देश हित में फैसले किए जाते हैं इस प्रकार चुनाव का आयोजन करके एक संगठित तरीके से सरकार बनाई जाती है

 भारत में चुनाव चार प्रकार के होते हैं लोकसभा चुनाव राज्यसभा चुनाव विधानसभा चुनाव और पंचायत या नगर निगम चुनाव

1.  लोकसभा चुनाव

लोकसभा इसे हम सामान्य चुनाव भी कह सकते हैं और भारत के लोकसभा चुनाव में 543 सीटों के लिए चुनाव का आयोजन किया जाता है और यह चुनाव का आयोजन चुनाव आयोग के द्वारा किया जाता है और सबसे ज्यादा लोकसभा सीटों की बात की जाए तो यह सीटें सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में है जिनकी संख्या 80 है और सबसे कम सीट मिजोरम नागालैंड में है इन राज्यों में मात्र एक-एक सीट है इन्हीं सीट के लिए चुनाव किया जाता है

2. विधानसभा चुनाव

विधानसभा चुनाव राज्य स्तर पर होते हैं यानी कि राज्य सरकार के लिए होते हैं और इनमें विधायक का चुनाव होता है और विधायक जनता के द्वारा चुने जाते हैं हर राज्य में विधायक की सीट अलग-अलग होती है कुछ राज्य में ज्यादा है तो कुछ राज्य में कम होती हैं और हर राज्य की सीटें निर्धारित की गई हैं और विधानसभा चुनाव पांच राज्य में अलग-अलग समय पर किए जाते हैं और इनके द्वारा मुख्यमंत्री चुना जाता है

3. राज्यसभा चुनाव

राज्यसभा चुनाव राज्यसभा चुनाव जनता के द्वारा सीधा नहीं कराया जा सकता इस चुनाव को लोकसभा और विधानसभा के द्वारा चुने हुए प्रतिनिधि मिलकर ही राज्यसभा के सदस्य का चुनाव करते हैं और हम राज्यसभा को उच्च सदन के रूप में भी जानते हैं

4. पंचायत या नगर निगम चुनाव

पंचायत या नगर निगम चुनाव यह एक पंचायत के द्वारा आयोजित किए जाते हैं इनमें कुछ गांव ग्राम की एक पंचायत होती है जिसके लिए एक प्रधान का चुनाव आयोजन किया जाता है और इन पंचायत चुनाव में केवल वही व्यक्ति मतदान कर सकते हैं जिनका वोटर लिस्ट में नाम हो जिसमें चुनाव हो रहे हैं पंचायत चुनाव हर राज्य के जिले के हर पंचायत में आयोजित किए जाते हैं और इसके द्वारा सरपंच चुने जाते हैं ऐसे ही नगर निगम के चुनाव होते हैं यह  बड़े बड़े शहरों में आयोजित किए जाते हैं जिनमें महापौर आदि का चुनाव शहर की जनता के द्वारा किया जाता है

चुनाव प्रक्रिया के चरणों के नाम लिखिए​

भारत एक लोकतांत्रिक देश है और इसमें विधानसभा चुनाव के लिए कम से कम 1 महीना का समय लगता है जबकि आम चुनाव के लिए यह अवधि बढ़ जाती है भारत में चुनाव के लिए महत्वपूर्ण भूमिका मतदान सूची भी निभाती  है भारतीय संविधान के अनुसार जिस व्यक्ति की उम्र 18 वर्ष से अधिक है और वह भारत का नागरिक है और उसका नाम किसी भी मतदान सूची में होने के योग्य हो जाता है तो वह आप अपना नाम मतदाता सूची में जुड़वा कर किसी भी चुनाव में वोट डालने का अधिकार अपने पास रखता है

 चुनाव के पहले

चुनाव से पहले नामांकन भरना मतदाताओं की गिनती करना तिथियों की घोषणा की जाती है कि इस दिन मतदान किया जाएगा और जिस दिन मतदान की घोषणा की जाती है उसी दिन से राज्यसभा व लोकसभा सभी में आचार संहिता लागू कर दी जाती है और किसी भी पार्टी का चुनाव प्रचार के लिए सरकारी साधनों का उपयोग नहीं कर सकता और आचार संहिता का नियम यह  होता है कि कोई भी पार्टी चुनाव चालू होने से 48 घंटे पहले चुनाव प्रचार रोक देती है और राज्य के राज्य चुनाव में यह  गतिविधियां काफी आवश्यकता होती हैं

 मतदान वाले दिन

मतदान होने वाले दिन से पहले चुनाव प्रचार 1 दिन पहले बंद किया जाता है और सरकारी स्कूल और कॉलेजों को मतदान केंद्र के लिए चुना जाता है और प्रत्येक मतदान केंद्र पर मतदान कराने की जिम्मेदारी जिला अधिकारी कोदे दे दी जाती है और बहुत सारे सरकारी कर्मचारियों को मतदान केंद्र पर मतदान कराने के लिए लगाया जाता है चुनाव में हो रहे घोटालों को रोकने के लिए अब इलेक्ट्रिकल मशीनों का प्रयोग किया जा रहा है

 चुनाव के बाद

जब चुनाव खत्म हो जाता है इसके बाद मतदान पेटी  को एक सुरक्षित स्थान पर हर जिले में एकत्रित किया जाता है और पहले से घोषित की हुई तारीख को इन वोटों की गिनती की जाती है और जो भी व्यक्ति इस मतदान में सबसे ज्यादा वोट हासिल करता है उसे उसे विजय घोषित कर दिया जाता है

और सबसे ज्यादा सीटें प्राप्त करने वाली किसी भी पार्टी या कहें कि गठबंधन जो सबसे ज्यादा सीट पर विजय होता है उसे राष्ट्रपति के द्वारा अपनी सरकार बनाने के लिए आमंत्रण भेजा जाता है और फिर बाह राष्ट्रपति के सामने अपनी सरकार के लिए मंत्रियों की एक लिस्ट देते हैं जिस पर राष्ट्रपति के सिग्नेचर के बाद उन्हें शपथ दिलाई जाती

chunav kitne prakar ke hote hain आर्टिकल कैसा लगा 

दोस्तों हमने हमारे इस आर्टिकल में chunav kitne prakar ke hote hain में आपको बताया है कि चुनाव कितने प्रकार के होते हैं और चुनाव के चरण कौन कौन से होते हैं और चुनाव की प्रक्रिया कैसी होती है अगर आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल अच्छा लगता है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल कैसा लगा धन्यवाद

 

Previous articlerajdhani mukhyamantri or rajyapal सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और राज्यपाल सूची 2024
Next articlejos buttler biography in hindi / Profile: Height, Age, Affairs, Biography
manoj meena
हेलो दोस्तों मेरा नाम मनोज मीना है मैं बीए फाइनल ईयर का छात्र हूं मुझे बायोग्राफी लिखना काफी पसंद है क्योंकि हिंदी में ज्यादातर जानकारी किसी के बारे में भी उपलब्ध नहीं होती इसीलिए मैं ज्यादातर जानकारी इकट्ठी कर कर पॉपुलर पर्सन के बारे में बायोग्राफी लिखता हूं आप मुझे इंस्टाग्राम और फेसबुक पर फॉलो भी कर सकते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here